Best Hindi poetry । चंद पैसों में इंसान बिकते हैं

Best Hindi poetry

Best Hindi poetry for real life

यहां सिर्फ रोटी कपड़ा और मकान नहीं,
चंद पैसों में इंसान बिकते हैं।
यहां तो मज़हब के नाम पर ,
पत्थरों और तस्वीरों में भी
सबके अलग-अलग भगवान बिकते हैं।

यहां झूठ छुपता है सच का लिबास पहन,
यहां ना मौला ना ही अब राम बसते हैं।
फूलों की महक भी बची नहीं,
अब यहां तो घर-घर कागज के फूल सजते हैं।

यहां तो रिश्तो का खेल भी अनोखा है,
एक ही छत के नीचे खड़े लोगों में
युद्ध के शंखनाद बचते हैं।
यहां तो अपनों के लिए कम लड़ते हैं लोग,
भाई भाई तो यहां पैसों के लिए,
एक-दूसरे के खून के प्यासे लगते हैं।

यहां तो रावण जैसा भी कोई नहीं,
और खुद को कलयुग का राम बताकर
मूर्ख,अज्ञानी,पाखंडी मिलते हैं।
यहां मन की सीरत साफ नहीं और लोग
बस चेहरों से सुंदर दिखते हैं।
यहां सिर्फ रोटी कपड़ा और मकान नहीं,
चंद पैसों में इंसान बिकते हैं।

Best Hindi poetry for real life । चंद पैसों में इंसान बिकते हैं…

Yahaan serf roti,kapda aur makaan Nahin,
Chand paison main insaan bikate Hain.
Yahaan toh mazahab ke naam par ,
pattharon aur tasveeron mein bhee
sabake alag-alag bhagavaan bikate hain.

yahaan jhooth chhupata hai sach ka
libaas pahan,
yahaan na maula na hee ab raam
basate hain.
phoolon kee mahak bhee bachee nahin,
ab yahaan to ghar-ghar kaagaj ke
phool sajate hain.

yahaan to rishto ka khel bhee
anokha hai,
ek hee chhat ke neeche khade logon mein
yuddh ke shankhanaad bachate hain.
yahaan to apanon ke liye kum ladate
hain log,
bhai bhai to yahaan paison ke liye,
ek-doosare ke khoon ke pyaase
lagate hain.

yahaan to raavan jaisa bhee koee nahin,
aur khud ko kalayug ka raam bataakar
moorkh,agyaanee,paakhandee milate hain.
yahaan man ki seerat saaf nahin aur log
bas cheharon se sundar dikhate hain.
yahaan sirf rotee kapada aur
makaan nahin,
chand paison mein insaan bikate hain.

Best Hindi poetry for real life 👇

  • Hindi Poetries on life l जिंदगी तू भी बता
  • Life poem l कुछ अनकहे ख्वाबों का कारवां
  • Follow on instagram
    ❤️Follow on Instagram

    close

    🤞 Don’t miss our new post!

    We don’t spam! Read our privacy policy for more info.

    One thought on “Best Hindi poetry । चंद पैसों में इंसान बिकते हैं”

    Leave a Reply

    Your email address will not be published. Required fields are marked *

    Related Post

    Corona virus

    Corona virus l वैश्विक महामारी कोरोना by GAURAV SHARMACorona virus l वैश्विक महामारी कोरोना by GAURAV SHARMA

    Corona virus Poetry फैली हुई है महामारी,कोरोना के नाम की। लगी हुई है दाव बड़ी,इंसानों के जान की। कर रहे हैं हिसाब यमजी,मानव के बुरे काम की। हो रहे थे

    poem on Friendship day

    Poem On Friendship Day । मुझे तेरी दोस्ती चाहिएPoem On Friendship Day । मुझे तेरी दोस्ती चाहिए

    Friend poem on Friendship day फिर से वो बचपन की बहार चाहिए, मुझे तेरी दोस्ती उधार चाहिए। फिर वही शरारत बेशुमार चाहिए, मुझे तेरी दोस्ती उधार चाहिए।। ना कंधे पर