Best poetry in Hindi । जख्म की नुमाइश

Best Poetry in hindi

Best poetry in Hindi

यहां जख्म की नुमाइश
इश्तिहार में होती है,
नोंचकर, खरोंचकर आबरू ,
फिर चर्चा सारे बाज़ार में होती है।

कहां छुआ गया,
चुमा गया कहां ?
पूछते हैं लोग,
यहां इंसानियत की हद भी,
हद के पार में होती है।
यहां जख्म की नुमाइश,
इश्तिहार में होती है।

देखकर अनजान बनते हैं,
जब इज्जत किसी की तार-तार होती है,
पर इज्जत की वाह-वाही तो
सिर्फ घुंघट और नकाब में होती है।
यहां जख्म की नुमाइश,
इश्तिहार में होती है।

यहां जख्म की नुमाइश
इश्तिहार में होती है,
नोंचकर, खरोंचकर आबरू ,
फिर चर्चा सारे बाज़ार में होती है।

Best poetry in Hindi । YAHAAN ZAKHM KI NUMAISH ISHTIHAAR MEIN HOTI HAI

yahaan zakhm ki numaish
ishtihaar mein hotee hai,
nonchakar, kharonchakar aabaroo ,
phir charcha saare baazaar mein
hoti hai.

kahaan chhua gaya,
chuma gaya kahaan ?
poochhate hain log,
yahaan insaaniyat kee had bhi,
had ke paar mein hotee hai.
yahaan zakhm ki numaish,
ishtihaar mein hotee hai.

dekhakar anajaan banate hain,
jab ijjat kisee ki taar-taar hotee hai,
par ijjat ki waah-vaahee to
sirf ghunghat aur nakaab mein hotee hai.
yahaan zakhm kee numaish,
ishtihaar mein hotee hai.

yahaan zakhm ki numaish
ishtihaar mein hotee hai,
nonchakar, kharonchakar aabaroo ,
phir charcha saare baazaar mein
hoti hai.

यह भी पढ़ें👇
🔸Women Poetry l तेजाब एक प्रतिशोध
🔸Poem on women empowerment ।अब लौह बनकर निकलूंगी🔥
❤️Follow on Instagram

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Related Post

Deshbhakti Poetry in Hindi

Deshbhakti Poetry in Hindi । गोरव क्रांति वीर बने हम 🇮🇳Deshbhakti Poetry in Hindi । गोरव क्रांति वीर बने हम 🇮🇳

Deshbhakti Poetry in Hindi गौरव क्रांति वीर बने हम, मातृभूमि का हम पर साया है। ऐ तिरंगे तेरी शान में मिटने एक जूनुन सा छाया है। मिटे भी तो गम