Corona Poem । कोरोना

Corona poem

Corona Poem in Hindi

अबतक मिट्टी से सनकर लहू बहाया है,
अब घर-घर से एक-एक सिपाही आया है।
सेवा में है जिन वीरों ने प्राण गवाएं,
आज वो हर वीर खुदा कहलाया है।

सुना है कोरोना ने अब तक न है हार मानी,
मगर है प्रण सबका यहां,
न चलने देंगे कोरोना की मनमानी।
फिर से सूरज बदरी हटाकर चमकेगा,
यहां हार न मानेगा एक-एक हिंदुस्तानी।

माना दिन-ब-दिन सांसे कम हो रही है,
केवल प्रशासन का दोष नही,
कुछ तो अपनी भी है लापरवाही।
अब है हौसला सब में जगाने और
समर्थन लाने की बारी,
अब दुश्मन को कम न आँको भाई।

कोई अपना परिवार छोड़,
तुम्हारे परिवार के लिए सेवा में खड़ा है।
दिन-रात भूख प्यास भूल,
वह भी लड़ रहा है।
फिर क्यों तुम लापरवाही दिखाते हो,
चीख-चीख के कोई कह रहा तुमसे,
तुम मास्क लगाकर दो गज़ दूरी
क्यों नहीं बनाते हो?

More poem👇
🔸कोरोना की स्थिति पर कविता
🔸कोरोना की स्थिति पर कविता

close

🤞 Don’t miss our new post!

We don’t spam! Read our privacy policy for more info.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Related Post

poem on Friendship day

Poem On Friendship Day । मुझे तेरी दोस्ती चाहिएPoem On Friendship Day । मुझे तेरी दोस्ती चाहिए

Friend poem on Friendship day फिर से वो बचपन की बहार चाहिए, मुझे तेरी दोस्ती उधार चाहिए। फिर वही शरारत बेशुमार चाहिए, मुझे तेरी दोस्ती उधार चाहिए।। ना कंधे पर

Deshbhakti poetry in Hindi

Deshbhakti Poetry In Hindi । मैं बहा दूं खून दुश्मनो काDeshbhakti Poetry In Hindi । मैं बहा दूं खून दुश्मनो का

Deshbhakti Poetry in Hindi अगर सरहदों में बिकता खून मेरा, तो भारत माँ भी कहती कि तू मेरी संतान नहीं, पर मैं तो हूं वह सिपाही, जिसे जंग में पीछे