Deshbhakti Poetry In Hindi । मैं बहा दूं खून दुश्मनो का

Deshbhakti poetry in Hindi

Deshbhakti Poetry in Hindi

अगर सरहदों में बिकता खून मेरा,
तो भारत माँ भी कहती कि
तू मेरी संतान नहीं,
पर मैं तो हूं वह सिपाही,
जिसे जंग में पीछे हटना आता ही नहीं।
मैं बहा दूं खून दुश्मनो का इस धरती पर,
यह धरती तो मां है मेरी ।

मैं निकलूं घर से जननी का चरण छू,
यह सिर्फ आशीर्वाद नहीं यह तो चट्टां है मेरी।
मैं तो हूं वह सिपाही,
जिसे जंग में पीछे हटना आता ही नहीं।
मैं बहा दूं खून दुश्मनो का इस धरती पर,
यह धरती तो मां है मेरी ।

ईश्वर पर चढ़ते हैं जो फूल कई,
इस माटी में खिला हरफूल तो शान है मेरी,
मैं बिछा दूं माटी में लाशें मगर,
देश को ना मिटने दूंगा।
हर अंधेरा हटा में इस धारा को,
रोशनी से मिलने दूंगा।
मैं बहा दूं खून दुश्मनो का इस धरती पर,
यह धरती तो मां है मेरी ।

DESHBHAKTI POETRY IN HINDI । MAIN BAHA DUN KHOON DUSHMANO KA

Agar sarahadon mein bikata khoon mera,
to bhaarat maa bhee kahati ki
tu meree santaan nahin,
par main to hoon vah sipaahee,
jise jang mein peechhe hatana aata hee nahin.
main baha doon khoon dushmano ka is dharatee par,
yah dharati to maa hai meri .

main nikaloon ghar se janani ka charan chhoo,
yah sirph aasheerwaad nahin yah to chattaan hai meree.
main to hoon vah sipaahee,
jise jang mein peechhe hatana aata hee nahin.
main baha doon khoon dushmano ka is dharatee par,
yah dharati to maa hai meree .

Ishwar par chadhate hain jo phool kayee,
is maatee mein khila har phool to shaan hai meree,
main bichha doon maatee mein laashen magar,
desh ko na mitane doonga.
har andhera hata mein is dhaara ko,
roshani se milane doonga.
main baha doon khoon dushmano ka is dharatee par,
yah dharati to maa hai meree .

Deshbhakti Poetry in Hindi 👇

  • Deshbhakti kavita l मैं सैनिक
  • गोरव क्रांति वीर बने हम 🇮🇳
  • Follow on instagram
    ❤️Follow on Instagram

    close

    🤞 Don’t miss our new post!

    We don’t spam! Read our privacy policy for more info.

    One thought on “Deshbhakti Poetry In Hindi । मैं बहा दूं खून दुश्मनो का”

    Leave a Reply

    Your email address will not be published. Required fields are marked *

    Related Post

    Deshbhakti poetry

    Amazing deshbhakti poetry l मातृभूमि तुझे प्रणामAmazing deshbhakti poetry l मातृभूमि तुझे प्रणाम

    DESHBHAKTI POETRY भीतर करुणा बाहर करुणा, करुणा जीवन का विस्तार। सेवा प्रेम अहिंसा संयम, सारा करुणा का परिवार। हे मातृभूमि !तुझे शत-शत प्रणाम। रख ह्रदय में अपनी संस्कृति, करती जो

    Motivational Poetry in Hindi

    Powerful Motivational Poetry in Hindi । वजूद की तलाशPowerful Motivational Poetry in Hindi । वजूद की तलाश

    Motivational Poetry in Hindi तुझे वजूद की तलाश है, तो चल निकल प्रकाश में । तेरे भीतर ही आस बैठी है, अंधेरों में छिपी निकास में। तुझे दुश्मनों से खौफ

    Corona virus

    Corona virus l वैश्विक महामारी कोरोना by GAURAV SHARMACorona virus l वैश्विक महामारी कोरोना by GAURAV SHARMA

    Corona virus Poetry फैली हुई है महामारी,कोरोना के नाम की। लगी हुई है दाव बड़ी,इंसानों के जान की। कर रहे हैं हिसाब यमजी,मानव के बुरे काम की। हो रहे थे