Amazing deshbhakti poetry l मातृभूमि तुझे प्रणाम

Deshbhakti poetry

DESHBHAKTI POETRY

भीतर करुणा बाहर करुणा,
करुणा जीवन का विस्तार।

सेवा प्रेम अहिंसा संयम,
सारा करुणा का परिवार।

हे मातृभूमि !तुझे शत-शत प्रणाम।

रख ह्रदय में अपनी संस्कृति,
करती जो सबका कल्याण।

उस मातृभूमि को नमस्कार है
जिसके मन में करुणा अपार।

हे मातृभूमि !तुझे शत-शत प्रणाम।

तुमसे ही हुआ है जीवन का उत्थान ,
मेरे हृदय में विराजित है तुम्हारा प्यार ,

तुमसे ही मां शब्द का अर्थ कहलाता है।
तुम्हारे द्वारा ही करुणा रूपी पुष्प
पुष्पित हो जाता है ।

हे मातृभूमि !तुझे शत-शत प्रणाम।

DESHBHAKTI । MAATRBHOOMI!TUJHE SHAT-SHAT PRANAAM

Bheetar karuna baahar karuna,
Karuna jeevan ka vistaar.

Seva prem ahinsa sanyam,
Saara karuna ka parivaar.

Hee maatrbhoomi ! tujhe shat-shat pranaam,
Rakh hrday mein apni sanskrti,
Karti jo sabka kalyaan.

Uss maatrbhoomi ko namaskaar hai,
Jiske mann mein karuna apaar,
hee maatrbhoomi ! tujhe shat-shat pranaam.

Tumse hi hua hai jeevan ka utthaan,
Mere hrday mein viraajit hai tumhaara pyaar,

Tumse hee maa shabd ka arth kahalaata hai,
Tumhaare dvaara hee karuna roopee pushp,
Pushpit ho jaata hai.

Hee maatrbhoomi ! tujhe shat-shat pranaam……

Deshbhakti poetry in Hindi👇
मैं सैनिक

close

🤞 Don’t miss our new post!

We don’t spam! Read our privacy policy for more info.

One thought on “Amazing deshbhakti poetry l मातृभूमि तुझे प्रणाम”

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Related Post

Deshbhakti Poetry in Hindi

Deshbhakti Poetry in Hindi । गोरव क्रांति वीर बने हम 🇮🇳Deshbhakti Poetry in Hindi । गोरव क्रांति वीर बने हम 🇮🇳

Deshbhakti Poetry in Hindi गौरव क्रांति वीर बने हम, मातृभूमि का हम पर साया है। ऐ तिरंगे तेरी शान में मिटने एक जूनुन सा छाया है। मिटे भी तो गम

Life poem

Best Life poem l कुछ अनकहे ख्वाबों का कारवांBest Life poem l कुछ अनकहे ख्वाबों का कारवां

Life poem मेरे ख्वाब यू सिमट गए कि अब तो परछाई भी उसकी धुंधली सी नजर आने लगी, मैंने ख्वाबों का पीछा किया कुछ इस कदर कि अब तो खुद