Best Hindi Motivational Poetry l प्रगति हूं मैं

Hindi motivational Poetry

Hindi motivational Poetry

निरंतर अविराम एक गति हूं मैं,
तुम्हारी सफलता का एक महत्वपूर्ण हिस्सा
प्रगति हूं मैं।🌷

उन्नति का क्रम हूँ मैं,
बढ़ते विकास का सम हूं मैं।
तुम्हारे लंबे से पथ का जो विराम नहीं,
उस पथ के उत्थान की प्रति हूं मैं,
तुम्हारे जीवन को सार्थक करने वाली संगति हूं मैं,
निरंतर अविराम एक गति हूं मैं,
तुम्हारी सफलता का एक महत्वपूर्ण हिस्सा
प्रगति हूं मैं🌷

वह गति हूँ जो कभी रुक नहीं सकती,
वह गति जो कभी झुक नहीं सकती।
लक्ष्य और दृढ़ता है मेरे साथ,
प्रेरणा तो परस्पर है मेरे हाथ
करो यदि स्वयं पर पूर्ण विश्वास,
तो मैं ना कभी विराम हूं।
मैं तो तुम्हारी नियति और कर्म का परिणाम हूँ,
निरंतर अविराम एक गति हूं मैं,
तुम्हारी सफलता का एक महत्वपूर्ण हिस्सा
प्रगति हूं मैं।🌷

HINDI MOTIVATIONAL POETRY । PRAGATI HUN MAIN
nirantar Aviram Ek Gati Hun Main,
Tumhari safalta ka ek mahttvapurn hissa Pragati Hun main.🌷

Unnati Ka kram hun Main badhate Vikas ka summ hun main,
Tumhare Lambe se Path kaa Jo Viraam Nahin uss path ke utthan ki Prati Hun Main,
Tumhare Jivan Ko Sarthak karne wali sangati hun main,
nirantar Aviram Ek Gati Hun Main,
Tumhari safalta ka ek mahttvapurn hissa Pragati Hun main.🌷

vah gati hun jo Kabhi ruuk Nahin sakti,
vah gati hun jo Kabhi Jhuuk Nahin sakti, Lakshya aur dhridhata Hai Mere Saath,
Prerna to Paraspar hai mere hath.
karo yadi swayam par pooran Vishwas Toh, Main Naa Kabhi Viraam Hun,
Main Toh Tumhaari Niyati aur karam Kaa hi parinaam hun.🌷

nirantar Aviram Ek Gati Hun Main,
Tumhari safalta ka ek mahttvapurn hissa Pragati Hun main.🌷

Hindi motivational Poetry 👇
Motivational poetry अभिमान हो तुम

close

🤞 Don’t miss our new post!

We don’t spam! Read our privacy policy for more info.

One thought on “Best Hindi Motivational Poetry l प्रगति हूं मैं”

  1. Swati Yadav says:

    👍👍

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Related Post

Poetry on women

Best Poetry On Women । मैं खड़ी हूं बाजार मेंBest Poetry On Women । मैं खड़ी हूं बाजार में

Poetry on women in Hindi मैं खड़ी हूं बाजार में खुदको तौलने, कभी रिश्तों में,कभी मर्यादाओं में, कभी तेरे प्यार की आकांक्षाओं में । कि तुम यहां मेरे रंग रूप

Deshbhakti poetry

Amazing deshbhakti poetry l मातृभूमि तुझे प्रणामAmazing deshbhakti poetry l मातृभूमि तुझे प्रणाम

DESHBHAKTI POETRY भीतर करुणा बाहर करुणा, करुणा जीवन का विस्तार। सेवा प्रेम अहिंसा संयम, सारा करुणा का परिवार। हे मातृभूमि !तुझे शत-शत प्रणाम। रख ह्रदय में अपनी संस्कृति, करती जो