Category: Hindi poem on social issues

Best Poetry in hindi

Best poetry in Hindi । जख्म की नुमाइशBest poetry in Hindi । जख्म की नुमाइश

Best poetry in Hindi यहां जख्म की नुमाइश इश्तिहार में होती है, नोंचकर, खरोंचकर आबरू , फिर चर्चा सारे बाज़ार में होती है। कहां छुआ गया, चुमा गया कहां ?

Corona virus

Corona virus l वैश्विक महामारी कोरोना by GAURAV SHARMACorona virus l वैश्विक महामारी कोरोना by GAURAV SHARMA

Corona virus Poetry फैली हुई है महामारी,कोरोना के नाम की। लगी हुई है दाव बड़ी,इंसानों के जान की। कर रहे हैं हिसाब यमजी,मानव के बुरे काम की। हो रहे थे