Hindi Poetries on life l जिंदगी तू भी बता

Hindi Poetries on life

Hindi Poetries on life

जिंदगी तू भी बता
क्या है तेरा किस्सा,
मैं सुनूं तेरी बातें,
चल तू भी कुछ अपनी सुना…

जानना चाहती हूं तेरे बारे में
मैं हूं तेरे सामने तू मुझे बता,
मेरा वक्त छीनकर तू
जिस मजाक में खेलती है,
पूछती हूं किस थान का
तूने ओढ़े रखा है लहज़ा,
जिंदगी तू भी बता….

होठों पर हंसी कुछ पल
तुम यूं ठहरा सी देती हो,
पता ही नहीं चलता किस कदर
तनहाइयां है मेरे अंदर,
कि उस खुशी के पीछे एक गम
तुम ही तो देती हो,
हंसती होगी तुम बहुत दिन रात
जो यूं मेरी परीक्षाएं लेती हो,
जिंदगी तू भी बता….

चल तेरे साथ बैठूं
तुझे करूं अपनी तकलीफें बयां ,
आखिर मैं भी तो लूं
तेरे केस्सों का मजा,
मैं तुझे सब कुछ बताऊं
और फिर तुम्हारी सुनूं
आज करते हैं यह सौदा ,
जिंदगी तू भी बता
क्या है तेरा किस्सा…


POETRY ON LIFE

Zindagi tu bhi bata,
Kya hai tera kissa…
Main sunoon teri baatyein
Chal tu bhi kuchh apanee suna,

Jaanna chaahatee hoon tere baare me mein,
Main hoon tere saamane tu mujhe bata,
Mera vakt chheenakar tu
jiss majaak mein khelatee hai.
poochati hoon kiss thaan ka
toone odhe rakha hai lehzaa..

hothon par hansi kuch pal
tum yoon thahara see deti ho,
pata hee nahin chalata kis kadar
tanahaiyaan hai mere andar,
ki uss khushee ke peechhe ek gam
tum hee to deti ho,
hansatee hogee tum bahut din raat,
jo yoon meree pareekshayen leti ho…

chal tere saath baithoon,
tujhe karoon apanee takaleefen bayaan.
aakhir main bhee to loon
Tere kisson ka maja,
main tujhe sab kuchh bataun,
aur phir tumhaaree sunun,
aaj karate hain yah sauda,
Zindagi tu bhi bata,
kya hai tera kissa…

Hindi Poetry on life 👇

  • Hindi Poetries on life l मेरा आईना चुप है
  • 2 thoughts on “Hindi Poetries on life l जिंदगी तू भी बता”

    1. Eshita says:

      Nice 🌼💐🙌

    2. Pragati Mehra says:

      Etna acha likhte ho 👍😀

    Leave a Reply

    Your email address will not be published. Required fields are marked *

    Related Post

    poem on Friendship day

    Poem On Friendship Day । मुझे तेरी दोस्ती चाहिएPoem On Friendship Day । मुझे तेरी दोस्ती चाहिए

    Friend poem on Friendship day फिर से वो बचपन की बहार चाहिए, मुझे तेरी दोस्ती उधार चाहिए। फिर वही शरारत बेशुमार चाहिए, मुझे तेरी दोस्ती उधार चाहिए।। ना कंधे पर