Hindi Poetry For LOVE । हम यूं ही तो ना मिले होंगे

Hindi Poetry for LOVE

Hindi Poetry for LOVE

कहते हैं खुदा उनसे ही मिलाता है,
जो किस्मत में लिखे होंगे।
तुम्हें भी मिलाया मेरी किस्मत ने
कुछ ऐसे ही, कि सोचती हूं-
हम यूं ही तो ना मिले होंगे।

कुछ अधूरे शिकवे मेरे हैं तो
कुछ तुम्हारे भी गिले होंगे,
राह में साथ थे हाथ थामकर हम,
हम यूं ही तो ना मिले होंगे।

जुदा होकर ठोकर खाए होंगे तुमने भी,
कुछ तो जिंदगी से सीख
तुमने भी सीखे होंगे।
पर हम यूं ही तो ना मिले होंगे।

वक्त और दूरी कितनी भी क्यों ना हो,
हम तुम्हारे बातों में ही सही और
ख्वाबों में भी दिखे होंगे।
हम यूं ही तो ना मिले होंगे।

प्यार तुम्हें भी है और मुझे भी,
इंतजार तुम्हें भी है और मुझे भी,
बस तुम्हारे होठों ने इस इज़हार को,
डर के धागों से सिले होंगे।
कमबख्त ये दिल रोज कहता है,
हम यूं ही तो ना मिले होंगे।

FOR LOVE🌹
kahate hain khuda unase hee milaata hai,
jo kismat mein likhe honge.
tumhen bhee milaaya meree kismat ne
kuchh aise hee, ki sochatee hoon-
ham yoon hee to na mile honge.

kuchh adhoore shikave mere hain to
kuchh tumhaare bhee gile honge,
raah mein saath the haath thaamakar ham,
ham yoon hee to na mile honge.

juda hokar thokar khaye honge
tumane bhee,
kuchh to jindagee se seekh
tumane bhee seekhe honge.
par ham yoon hee to na mile honge.

vakt aur dooree kitanee bhee kyon na ho,
ham tumhaare baaton mein hee sahee aur
khwaabon mein bhee dikhe honge.
ham yoon hee to na mile honge.

pyaar tumhen bhee hai aur mujhe bhee,
intajaar tumhen bhee hai aur mujhe bhee,
bas tumhaare hothon ne iss izahaar ko,
dar ke dhaagon se sile honge.
kamabakht ye dil roj kahata hai,
ham yoon hee to na mile honge.

Hindi Poetry for LOVE 👇

  • Love poetry in Hindi l मैं नदी तू समंदर🌹
  • SAD poetry in Hindi on LOVE । तुम अक्सर भूल जाते हो
  • Follow on instagram
    ❤️Follow on Instagram

    Leave a Reply

    Your email address will not be published. Required fields are marked *

    Related Post

    Best poem in hindi

    Best Poem In Hindi l ऐ वतन तुझसे नाराज है मेरा दिलBest Poem In Hindi l ऐ वतन तुझसे नाराज है मेरा दिल

    Best poem in hindi(Emotional) ऐ वतन तुझसे नाराज है मेरा दिल तू गुलाम था तो ही अच्छा था। पता है प्रगति की गति तूने पकड़ी है आजादी के बाद ,

    Corona virus

    Corona virus l वैश्विक महामारी कोरोना by GAURAV SHARMACorona virus l वैश्विक महामारी कोरोना by GAURAV SHARMA

    Corona virus Poetry फैली हुई है महामारी,कोरोना के नाम की। लगी हुई है दाव बड़ी,इंसानों के जान की। कर रहे हैं हिसाब यमजी,मानव के बुरे काम की। हो रहे थे

    Best Poetry in Hindi

    Best poetry in Hindi । एक गांव मेरा -बाढ़ पर कविताBest poetry in Hindi । एक गांव मेरा -बाढ़ पर कविता

    Best Poetry in Hindi(heart touching poem in Hindi) एक गांव मेरा जहां सब कुछ इूब गया। किसी की संजोयी यादें गई, जहां अरमान लिये चलते थे लोग, वो लंबी सी