Life poem

मेरे ख्वाब यू सिमट गए
कि अब तो परछाई भी
उसकी धुंधली सी नजर आने लगी,
मैंने ख्वाबों का पीछा किया
कुछ इस कदर कि
अब तो खुद से दूर मै जाने लगी,
शायद अब भी तय करना है बाकी
कुछ अनकहे ख्वाबों का कारवां….

चुप सा हो गया है मानो यह रास्ता
गुम सी हो गई जाने मैं कहां ,
पर मुस्कान अब भी बाकी है
मेरे होठों पर जैसे
इस चुप्पी से हो मेरा कोई वास्ता ,
शायद अभी तय करना है बाकी
कुछ अनकहे ख्वाबों का कारवां….

मेरे ख्वाब हैं झूठें
सच तो सिर्फ तू है मेरा ,
मेरा रास्ता भी तुझसे शुरू
तुझपे खत्म
और मेरे ख्वाबों में दीदार
भी तेरा पर ,
शायद अभी तय करना है बाकी
कुछ अनकहे ख्वाबों का कारवां….


LIFE POEM । KUCH AANKAHEIN KHWAABO KA KARWAA

mere khwaab yunh simaat gye
ki ab toh parchai bhi
uski dhundhli si nazar ane lagi,
maine khwaabo ka picha kiya
kuch iss kadar ki
ab toh khudse door me jane lgi,
shayad ab bhi taay krna hai baki
kuch aankahein khwaabo ka karwaa……

chup sa hogya hai mano yeah raasta
goom si hogyi jaane mein kaha,
par muskaan ab bhi baki hai
mere hoto par jaise
iss chuppi se hoo mera koi vasta,
shayad ab bhi taay krna hai baki
kuch aankahein khwaabo ka karwaa……

mere khwaab hai jhute
such toh sirf tu hai ek mera,
mera raasta sirf tujhse shuru
tujhpe khatam
aur mere khwaabon me didar
bhi tera par,
shayad ab bhi taay krna hai baki
kuch aankahein khwaabo ka karwaa……

Life poem 👇
Life poem l मौन हूँ मैं🙊
Hindi Poetries on life l मेरा आईना चुप है

Post Views: 176