Life poem l मौन हूँ मैं🙊

Life poem

LIFE POEM

जिंदगी जब सवाल छोड़ जाए तो
खुद से पूछती हूं कौन हूं मैं?
मगर पता ही नहीं यहां किसी को,
हाँ इसलिए मौन हूं मैं ।

बात,ज़सबात और रिश्तो के मायने,
मैं अच्छी तरह समझ लेती हूं।
पर हर बार ये मैं खुद से कहती हूं,
कौन हूं मैं ?

न जवाब है, ना रास्ता,न ही मंजिल है।
इसलिए मौन हूं मैं ।
किताब के निकले पन्नों सा बिखरी हूं मैं,
कोई समेटे तो पूछूँ कौन हूं मैं?
कहती हूं सबसे ज्यादा पर,
हाँ मौन हूँ मैं ।

LIFE POEM । MAUN HOON MAIN
jindagi jab sawal chhod jaye toh,
khud se poochhti hoon kaun hoon main?
magar pata hi nahin yahaan kissi ko,
haan issiliye maun hoon main.

baat, jazabaat aur rishton ke maayane,
main achi tarah samajh leti hoon….
par har baar ye main khud se kehti hoon,
kaun hoon main?

naah jawaab hai, naah raasta, naah hi manjil hai
issiliye maun hoon main….
kitaab ke nikle pannon sa bikhrii hoon main,
koi samete to poochhoon kaun hoon main?
kehti hoon sabase jyaada par,
haan maun hoon main.

Life poem in Hindi 👇

  • Hindi Poetries on life l जिंदगी तू भी बता
  • शब्द नहीं कुछ कहने को
  • Life poem

    2 thoughts on “Life poem l मौन हूँ मैं🙊”

    1. Verma sisters says:

      🙊👌

    2. Pragati Mehra says:

      Bahut aage jaoge 🙏aap
      Etna pyara likhte ho🤗👏

    Leave a Reply

    Your email address will not be published. Required fields are marked *

    Related Post

    Deshbhakti poetry in Hindi

    Deshbhakti Poetry In Hindi । मैं बहा दूं खून दुश्मनो काDeshbhakti Poetry In Hindi । मैं बहा दूं खून दुश्मनो का

    Deshbhakti Poetry in Hindi अगर सरहदों में बिकता खून मेरा, तो भारत माँ भी कहती कि तू मेरी संतान नहीं, पर मैं तो हूं वह सिपाही, जिसे जंग में पीछे

    The life poem

    The life poem l शब्द नहीं कुछ कहने कोThe life poem l शब्द नहीं कुछ कहने को

    Life poem in hindi शब्द नहीं कुछ कहने को इसलिए निःशब्द भावों से कहती हूं। मुझे लिखने का शौक है इसलिए कल्पनाओं में जीती हूं। लहज़ा है मेरे अंतर्मन का