Love poetry in hindi । तेरी हथेली चाहिए

Love poetry in Hindi

Love poetry in hindi

मेरे आंसुओं को
तेरी हथेली चाहिए,
मैं एक भटका काफिर हूं,
मुझे अब कड़ी धूप नहीं,
तेरे इश्क के बारिश की नमी चाहिए।

बहुत उड़ा हूं अब तक
आसमानों में मैं,
मुझे अब ठहरने के लिए
एक तेरी बस ज़मी चाहिए।
मेरे आंसुओं को
तेरी हथेली चाहिए।

बहुत रोया हूं अबतक अकेले,
अब तेरे हाथ साथ में
नहीं कोई कमी चाहिए।
अब मोहब्बत में साथ
जीने-मरने के लिए,
एक बस मुझे वही चाहिए।
मेरे आंसुओं को
तेरी हथेली चाहिए।

LOVE POETRY IN HINDI । TERI HATHELEE CHAAHIYE ❤️

mere aansuon ko
teri hathelee chaahiye,
main ek bhataka kaaphir hoon,
mujhe ab kadee dhoop nahin,
tere ishaq ke baarish kee
namee chaahiye.

bahut uda hoon abtak
aasamaanon me main,
mujhe ab thaharane ke liye
ek teri bas zamee chaahiye.
mere aansuon ko
teru hathelee chaahiye.

bahut roya hoon abatak akele,
ab tere haath saath me
nahin koee kami chaahiye.
ab mohabbat mein saath
jeene-marane ke liye,
ek bas mujhe vahee chaahiye.
mere aansuon ko
teri hathelee chaahiye.

Love poetry in hindi । यह भी पढ़ें👇
🔸Hindi Poetry for LOVE । हम यूं ही तो ना मिले होंगे
🔸Love poetry in Hindi l मैं नदी तू समंदर🌹
❤️Follow on Instagram

close

🤞 Don’t miss our new post!

We don’t spam! Read our privacy policy for more info.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Related Post

Mother's Day Poem l माँ

Mother’s Day Poem l माँ🤱Mother’s Day Poem l माँ🤱

Mother’s Day Poem कष्ट और पीड़ा को सहकर, मेरे नवजीवन का तुमने निर्माण किया, सहस्त्र वर्षों के पुण्य का ही ये परिणाम है । तुम ईश्वर की सबसे सुंदर श्रेष्ठ

Best Poetry in Hindi

Best poetry in Hindi । एक गांव मेरा -बाढ़ पर कविताBest poetry in Hindi । एक गांव मेरा -बाढ़ पर कविता

Best Poetry in Hindi(heart touching poem in Hindi) एक गांव मेरा जहां सब कुछ इूब गया। किसी की संजोयी यादें गई, जहां अरमान लिये चलते थे लोग, वो लंबी सी

Poem on women empowerment

Poem on women empowerment ।अब लौह बनकर निकलूंगी🔥Poem on women empowerment ।अब लौह बनकर निकलूंगी🔥

Poem on women empowerment जलती रही तेरे झूठे अभिमान के अंगारों में, अब लौह बनकर निकलूंगी, जो छुआ तूने मुझे तो सबसे बुरा तेरा हश्न करूंगी। बहुत गुरूर है तुझे