Category: MAA poetry in Hindi

Deshbhakti poetry

Amazing deshbhakti poetry l मातृभूमि तुझे प्रणामAmazing deshbhakti poetry l मातृभूमि तुझे प्रणाम

DESHBHAKTI POETRY भीतर करुणा बाहर करुणा, करुणा जीवन का विस्तार। सेवा प्रेम अहिंसा संयम, सारा करुणा का परिवार। हे मातृभूमि !तुझे शत-शत प्रणाम। रख ह्रदय में अपनी संस्कृति, करती जो

Mother's Day Poem l माँ

Mother’s Day Poem l माँ🤱Mother’s Day Poem l माँ🤱

Mother’s Day Poem कष्ट और पीड़ा को सहकर, मेरे नवजीवन का तुमने निर्माण किया, सहस्त्र वर्षों के पुण्य का ही ये परिणाम है । तुम ईश्वर की सबसे सुंदर श्रेष्ठ