Mother's Day Poem l माँ

Mother’s Day Poem l माँ🤱Mother’s Day Poem l माँ🤱

Mother’s Day Poem कष्ट और पीड़ा को सहकर, मेरे नवजीवन का तुमने निर्माण किया, सहस्त्र वर्षों के पुण्य का ही ये परिणाम है । तुम ईश्वर की सबसे सुंदर श्रेष्ठ

Poem on women empowerment

Poem on women empowerment ।अब लौह बनकर निकलूंगी🔥Poem on women empowerment ।अब लौह बनकर निकलूंगी🔥

Poem on women empowerment जलती रही तेरे झूठे अभिमान के अंगारों में, अब लौह बनकर निकलूंगी, जो छुआ तूने मुझे तो सबसे बुरा तेरा हश्न करूंगी। बहुत गुरूर है तुझे