Best Poetry On Women । मैं खड़ी हूं बाजार में

Poetry on women

Poetry on women in Hindi

मैं खड़ी हूं बाजार में खुदको तौलने,
कभी रिश्तों में,कभी मर्यादाओं में,
कभी तेरे प्यार की आकांक्षाओं में ।

कि तुम यहां मेरे रंग रूप को देखते हो।
क्या मोल रह गया है मेरे
और कौड़ियों के भावो में।
कभी बत्तचलन तो कभी बाँझ पुकारा जाता है,
यही इतिहास युगो युगो से चला आता है।
मैं खड़ी हूं बाजार में खुदको तौलने….

कभी जुए में हारा जाता है मुझे,
कभी दहेज की आग में तो कभी,
तेरे इश्क के तेजाब में झोंकी जाती हूं मैं।
और फिर अबला कहकर समाज की इज्जत
बचाने के लिए रोकी जाती हूं मैं।
मैं खड़ी हूं बाजार में खुदको तौलने….

मैं खड़ी हूं बाजार में खुदको तौलने,
कभी रिश्तों में कभी मर्यादाओं में,
कभी तेरे प्यार की आकांक्षाओं में ।

POETRY ON WOMEN । MAIN KHADI HOON BAAJAAR MAEIN KHUDKO TAULNE

Main khadi hoon baajaar mein khudko taulne,
Kabhi rishton mein, kabhi maryaadaon mein,
Kabhi tere pyaar ki aakaankshaon mein…..

Ki tum yahaan mere rang-roop
ko dekhate ho,
Kya mole rah gaya hai mere,
Aur kaudiyon ke bhaavon mein,
Kabhee battchalan to kabhee baanjh pukaara jaata hai,
Yahi itihaas yugo yugo se chala aata hai,
Main khadi hoon baajaar mein khudako taulane…..

Kabhi jue mein haara jaata hai mujhe,
Kabhi dahej ki aag mein toh kabhi,
Tere ishq ke tejaab mein jhonki jaati hoon main.
Aur phir abala kahkar saamaj ki izzat,
Bachaane ke liye roki jaati hoon main,
Main khadi hoon baajaar mein khudako taulane…..

Main khadi hoon baajaar mein khudko taulane,
Kabhi rishton mein, kabhi maryaadaon mein,
Kabhi tere pyaar ki aakaankshaon mein…..

Poetry on women 👇
Beti par kavita हक देती नहीं मैं
Best poem in Hindi l ऐ वतन तुझसे नाराज है मेरा दिल♥️
Women Poetry l तेजाब एक प्रतिशोध

close

🤞 Don’t miss our new post!

We don’t spam! Read our privacy policy for more info.

10 thoughts on “Best Poetry On Women । मैं खड़ी हूं बाजार में”

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Related Post

Deshbhakti poetry in Hindi

Deshbhakti Poetry In Hindi । मैं बहा दूं खून दुश्मनो काDeshbhakti Poetry In Hindi । मैं बहा दूं खून दुश्मनो का

Deshbhakti Poetry in Hindi अगर सरहदों में बिकता खून मेरा, तो भारत माँ भी कहती कि तू मेरी संतान नहीं, पर मैं तो हूं वह सिपाही, जिसे जंग में पीछे