republic day poem in hindi । मुझे आजाद रहने दो

republic day poem in hindi

republic day poem in hindi

तुम्हारी जुल्म की आँधी
न मुझको सहने दो,
बहुत सुन लिया मैंने तुमको,
आज मुझको कहने दो ।
मैं उड़ता परिंदा हूं,
मुझे आजाद रहने दो।

आधी उम्र बीती
तुम्हारे पिंजरे में कैद रहकर,
आज उसे खोल कर,
मुझे हवाओं में बहने दो।
मैं उड़ता परिंदा हूं,
मुझे आजाद रहने दो।

तड़पती मेरी आंखें हैं,
मेरी आजादी को देखने के लिए,
अब तलक कैद रखा है
दुनिया की बातों में,
दुनिया के रिवाजों में,
दुनिया के हाथों में मैंने,
अब मुझे खुद से कहने दो,
मैं उड़ता परिंदा हूं,
मैं आजाद हूं,
मुझे आजाद ही रहने दो।

_________________________________

republic day poem in hindi । Mujhe aajaad rahane do

tumhaaree julm kee aandhee
na mujhako sahane do,
bahut sun liya mainne tumako,
aaj mujhako kahane do .
main udata parinda hoon,
mujhe aajaad rahane do.

aadhee umr beetee
tumhaare pinjare mein kaid rahkar,
aaj use kholkar,
mujhe havaon mein bahane do.
main udata parinda hoon,
mujhe aajaad rahane do.

tadapati meri aankhen hain,
meri aajaadi ko dekhane ke liye,
ab talak kaid rakha hai
duniya ki baaton mein,
duniya ke rivaajon mein,
duniya ke haathon mein mainne,
ab mujhe khud se kahane do,
main udata parinda hoon,
main aajaad hoon,
mujhe aajaad hee rahane do.

इसे भी पढ़ें👇
🔸MOTIVATIONAL POETRY IN HINDI । सरफरोशी वाली जवानी
🔸Deshbhakti Poetry in Hindi । मैं बहा दूं खून दुश्मनो का
🔸Deshbhakti kavita l मैं सैनिक

❤️Follow on Instagram

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Related Post

Mother's Day Poem l माँ

Mother’s Day Poem l माँ🤱Mother’s Day Poem l माँ🤱

Mother’s Day Poem कष्ट और पीड़ा को सहकर, मेरे नवजीवन का तुमने निर्माण किया, सहस्त्र वर्षों के पुण्य का ही ये परिणाम है । तुम ईश्वर की सबसे सुंदर श्रेष्ठ