Best Teacher day poem in hindi । गुरु

Teacher day poem in hindi

Teacher day poem in hindi

स्वाभिमान के साथ लड़ना ,
मान के साथ उठना सिखाया है।
भय से डरना नहीं ,
आपने सदा विजय पथ पर
चलना सिखाया है।

विश्वास रख खुद पर ,
आगे बढ़ना सिखाया है।
अहंकार को त्यागना और
सदा सच्चाई का तुमने मार्ग दिखाया है।

ज्ञान अपना बांटकर हमें
हमारा भविष्य बनाया है।
आपने गिरना नहीं कभी
हमेशा संभलना सिखाया है।

दुश्मनों की भीड़ में,
साहस रखना सिखाया है।
हर परिस्थिति में
गुरु ने ही आईना दिखाया है।

Teacher day poem । GURU

svaabhimaan ke saath ladana ,
maan ke saath uthana sikhaaya hai.
bhay se darana nahin ,
aapane sada vijay path par
chalana sikhaaya hai.

vishvaas rakh khud par ,
aage badhana sikhaaya hai.
ahankaar ko tyaagana aur
sada sachchaee ka tumane
maarg dikhaaya hai.

gyaan apana baantakar hamen
hamaara bhavishy banaaya hai.
aapane girana nahin kabhee
hamesha sambhalana sikhaaya hai.

dushmanon kee bheed mein,
saahas rakhana sikhaaya hai.
har paristhiti mein
guru ne hee aaeena dikhaaya hai.

Teacher day poem in hindi 👇

  • Teachers Day Poetry In Hindi । हम कोरे कागज
  • father’s day poetry l वो जो जिम्मेदारियां लिये चला करता है
  • Follow on instagram
    ❤️Follow on Instagram

    close

    🤞 Don’t miss our new post!

    We don’t spam! Read our privacy policy for more info.

    Leave a Reply

    Your email address will not be published. Required fields are marked *

    Related Post

    Poem on women empowerment

    Poem on women empowerment ।अब लौह बनकर निकलूंगी🔥Poem on women empowerment ।अब लौह बनकर निकलूंगी🔥

    Poem on women empowerment जलती रही तेरे झूठे अभिमान के अंगारों में, अब लौह बनकर निकलूंगी, जो छुआ तूने मुझे तो सबसे बुरा तेरा हश्न करूंगी। बहुत गुरूर है तुझे

    Best Hindi poetry

    Best Hindi poetry । चंद पैसों में इंसान बिकते हैंBest Hindi poetry । चंद पैसों में इंसान बिकते हैं

    यहां सिर्फ रोटी कपड़ा और मकान नहीं, चंद पैसों में इंसान बिकते हैं। यहां तो मज़हब के नाम पर , पत्थरों और तस्वीरों में भी सबके अलग-अलग भगवान

    poem on Friendship day

    Poem On Friendship Day । मुझे तेरी दोस्ती चाहिएPoem On Friendship Day । मुझे तेरी दोस्ती चाहिए

    Friend poem on Friendship day फिर से वो बचपन की बहार चाहिए, मुझे तेरी दोस्ती उधार चाहिए। फिर वही शरारत बेशुमार चाहिए, मुझे तेरी दोस्ती उधार चाहिए।। ना कंधे पर